गारमेण्ट में कामकाज सुधरा

आगामी त्यौहारी सीजन में ग्राहकों तक नई डिजाइन एवं स्टाइल के परिधान पहुंचाने की कोशिश में उत्पादक
मुंबई/ रमाशंकर पाण्डेय...
गारमेण्ट में सीजन अभी मंदी का है, लेकिन इस बार त्यौहारी सीजन जल्द ही जुलाई में शुरू होने तथा की गई सेम्पलिंग में अच्छे रिस्पॉन्स मिलने के बाद उत्पादन स्तर पर कामकाज सुधरने लगा है। कहा जा रहा है कि पाइपलाइन खाली है और आगे तैयार परिधानों की मांग अच्छी रहने का अनुमान है, इससे गारमेंट कपड़ों की मांग भी बढ़ी है। केजुअल वीयर की मांग कम है, लेकिन पार्टीवीयर इत्यादि की मांग अच्छी रहने की उम्मीद है। अब तक उत्तरप्रदेश, बिहार, पंजाब और कोलकाता से अच्छी बुकिंग मिली है। मुंबई में 19 से 22 जुलाई तक होने जा रहे सीएमएआई के नेशनल गारमेण्ट फेयर के बाद गारमेंट के उत्पादन और उसके ट्रेंड की नई रूपरेखा सामने आने की उम्मीद है। 
त्यौहारी सीजन के लिए गारमेंट क्षैत्र कमर कस चुका है। गारमेंट फेयर और फैब्रिक्स फेयर की बाढ़ सी आ गई है और इस तरह का आयोजन सभी प्रमुख केंद्रों पर किया जा रहा है। कपड़ा और गारमेंट क्षेत्र के उत्पादकों को इस बात की पूरी जानकारी है कि पाइपलाइन खाली हो चुकी है और बीच की अवधि में कॉटन यार्न की तेजी के कारण बहुत अधिक उत्पादन नहीं हो सका है, अब कॉटन यार्न और रुई दोनों में गिरावट शुरू होने के बाद आगामी त्यौहारी सीजन में न केवल फैब्रिक्स बल्कि गारमेंट की भी अच्छी मांग रहने की संभावना है। कोशिश है कि जन्माष्टमी और दशहरा से शुरू हो रही बिक्री सीजन में दीपावली तक ग्राहकों को नई डिजाईन एवं स्टाइल उपलब्ध हो।
केंद्र सरकार एपेरल उत्पादन क्षैत्र को बढ़ावा देने और इसमें तेजी लाने के उद्देश्य से दूसरी उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन योजना अर्थात पीएलआई लाने की तैयारी में है। इस बारे में टेक्सटाइल मंत्रालय, डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑॅफ  इंडस्ट्री एंड इंटरनल टे्रड और नीति आयोग के बीच बातचीत चल रही है। केंद्र सरकार ने 1.97 करोड़ रू के प्रावधान के साथ दर्जन भर क्षेत्रों के लिए पीएलआई योजना की घोषणा की थी, इसमें मैनमेड फाइबर, टेक्निकल टेक्सटाइल, ह्वाईट गुड्स, मेडिकल डिवाइसेस, ऑटो मोबाइल्स और आटोकम्पोनेंट्स क्षेत्र का समावेश किया गया था, लेकिन अब सरकार एपरल क्षैत्र के लिए इस योजना को लाने के बारे में विचार कर रही है। कोयम्बटूर में सीमा टेक्सफेर 2022 को संबोधित करते हुए केंद्रीय टेक्सटाइल एवं वाणिज्य मंत्री पियूष गोयल ने कहा है कि टेक्सटाइल क्षेत्र के लिए एक पीएलआई स्कीम है और अब एपेरल क्षेत्र के लिए दूसरी पीएलआई स्कीम की घोषणा की जाएगी। विदेशी राष्ट्रों के साथ मुक्त व्यापार करार के बारे में बोलते हुए उन्होंने कहा कि यूएई और आस्टे्रलिया के साथ एफटीए हो चुका है, अब इजराइल, यूके, कनाडा तथा यूरोपियन यूनियन के साथ एफटीए की बातचीत अंतिम दौर में है। कनाडा अर्ली हार्वेस्ट एग्रीमेंट 2022 पहले करने के लिए सहमत हो चुका है। माना जा रहा है कि इन सभी कारगर कदमों से आगे चलकर टेक्सटाइल और गारमेंट क्षेत्र के विकास में मदद मिलेगी।


Textile World

Advertisement

Tranding News

गारमेण्ट में कामकाज सुधरा
Date: 2022-07-11 10:54:30 | Category: Textile
कॉटन आयात शुल्क मुक्त 
Date: 2022-04-22 10:45:18 | Category: Textile
कपड़े में तेजी बरकरार
Date: 2022-04-07 12:36:42 | Category: Textile
बाजार में हलचल आरंभ 
Date: 2022-02-23 17:14:55 | Category: Textile
कपड़ा बाजार खुला 
Date: 2021-06-25 11:16:44 | Category: Textile

© TEXTILE WORLD. All Rights Reserved. Design by Tricky Lab
Distributed by Tricky Lab