NEWS

Textile Textile Textile Textile Textile Articles Textile Textile Articles Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile
ग्रे व यार्न में तेजी को ब्रेक लगने से व्यापार प्रभावित

ग्रे व यार्न में तेजी को ब्रेक लगने से व्यापार प्रभावित

By: Textile World Date: 2021-03-12

अहमदाबाद/ सांवलाराम चौधरी
बीते दिनों अहमदाबाद के थोक बाजार में अच्छी ग्राहकी देखने को मिली थी, मगर ग्रे यार्न में तेजी को ब्रेक लगने से व्यापारी माल खरीदने से भाग रहे हैं। बाजार में एकदम ग्राहकी गायब हो गई है। कोरोना के नए केसों में बढ़ोतरी होने व लोकडाउन की अफवाह फैलने से भी व्यापारी सतर्क हो गए हैं तथा माल लेने में भी बहुत ध्यान दे रहे हैं। आगे मार्च महीना होने से भी व होली होने से भी व्यापारी ग्राहकी के इंतजार में है। पूरे वर्ष का वित्तीय लेन-देन का हिसाब किताब का महीना मार्च होने से व्यापारी नया माल खरीदने से बच रहे हैं।
बाजार में सभी ग्राहकी का ट्रेण्ड बदल रहा है। काफी वेरायटी गर्मी के कारण बदल रही है। माल में फैंसी व भारी माल की डिमांड चालू हो गई है। कॉटन, रेयॉन व काफी वैरायटी में गोल्ड, सिल्वर व जरी का माल बहुत डिमाण्ड में है। रियॉन प्लेन की डिमाण्ड खत्म हो गयी है। रियॉन 2 टोन की धूम धड़ाकी है, जिसमें महाकाल ब्राण्ड का माल बहुत चल रहा है।
यहां के स्थानीय बाजार में ग्राहकी के इंतजार में व्यापारी बैठे हैं। बाजार के जानकारों के मुताबिक आगामी गर्मी के सीजन में कॉटन बेस आइटम की अच्छी डिमाण्ड रह सकती है, जिसमें केम्ब्रिक प्लेन, व प्रिण्ट अच्छा चल सकता है। 
यहां के स्थानीय प्रोसेस हाउसों में भी काम की कमी बताई जा रही है। बाजार में पैसों की तंगी बरकरार है। उधर शेयर में काफी तेजी आने से कपड़ा बाजार का पैसा काफी मात्रा में उसमें निवेश हो रहा है। सरकार द्वारा कोरोना का टीकाकरण बड़ी मात्रा में चालू हो जाने से काफी लोग टीका लगवा सकते हैं, जिससे कोरोना ज्यादा से ज्यादा नियंत्रण में आ सकता है। शायद कोरोना आने वाले त्यौहारों तथा अच्छी सीजन दिपावली से पहले समाप्त हो सकता है। 2022 से कोरोना का नाम मिट सकता है। अभी भी काफी राज्यों में चुनाव हाने से कोरोना नियंत्रण में होना कठिन है क्योंकि अभी जो कोरोना के केसो में बढ़ोतरी हुई है, उसका मुख्य कारण चुनाव प्रसार में लापरवाही बताई जा रही है।

Latest News