NEWS

Textile Textile Textile Textile Textile Articles Textile Textile Articles Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile
टेक्सटाइल उद्योग विश्वस्तरीय उत्पादन करे -प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

टेक्सटाइल उद्योग विश्वस्तरीय उत्पादन करे -प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

By: Textile World Date: 2021-03-10


आत्मनिर्भर भारत में महत्वपूर्ण योगदान

नई दिल्ली/ राजेश शर्मा
प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने देश के टेक्सटाइल उद्योग से अनुरोध किया है कि वह विश्वस्तरीय उत्पादन करे, इसके लिए सरकार अनेक कदम उठा रही है। उन्होंने कहा कि टेक्सटाइल उद्योग का आत्मनिर्भर भारत में महत्वपूर्ण योगदान है। कॉन्फडरेशन आफ  इंडियन टेक्सटाइल इण्डस्ट्री (सिटी) द्वारा आयोजित ग्लोबल टेक्सटाइल्स कॉन्क्लेब 2021 के अवसर पर भेजे गए अपने संदेश में कहा कि सरकार देश में कारोबार को आसान करने और कौशल विकास के माध्यम से देश में औद्योगिक विकास के लिए अनेक कदम उठा रही है। इसके लिए सरकार ने देश में आधारभूत ढांचे को सुधार कर वैश्विक स्तर का बनाने के लिए अनेक उपाय किए हैं। श्री मोदी ने संदेश में कहा कि आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्य को पूरा करने में टेक्टाइल सेक्टर की भूमिका महत्वपूर्ण है। सरकार का फ ोकस टेक्सटाइल सेक्टर को नवीनतम तकनीक से सुसज्जित करने पर है। 
उल्लेखनीय है कि देश को आर्थिक रुप से मजबूत बनाने के लिए अनेक सेक्टरों पर फोकस कर रही है और कई योजनाएं बना रही है। उन्होंने टेक्सटाइल उद्योग से कहा कि वह कुछ नया करने की दिशा में लगातार कार्य करते रहें और अनुसंधान आदि में लगे रहें, ताकि वह नए बाजारों में अपना महत्वपूर्ण स्थान बना सके।  उद्योग विविधता के साथ ही उत्पादन और डिजाइन आदि में भी अनुसंधान करता रहे। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के असर ने हमें बताया कि किस प्रकार की तकनीक का प्रयोग करके हम चुनौती को अवसर में बदल सकते हैं। टेक्सटाइल सेक्टर के मेहनती कारीगरों ने देश को कम लागत की पीपीई किट की आवश्यकता को पूरा करने में सहयोग दिया। कॉन्क्लेब का उद्घघाटन करते हुए टेक्सटाइल मंत्री सुश्री स्मृति जुबिन ईरानी ने कहा कि सरकार देश के टेक्सटाइल उद्योग को बेहतर बनाने के लिए ठोस प्रयास कर रही है और इसके लिए उसने कई उपाय और योजनाओं की घोषणा की है। 
उन्होंने कहा कि सरकार ने देश में गारमेण्ट उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए 6,000 करोड़ रुपए के पेकेज और मेनमेड फैब्रिक गारमेण्ट तथा टेक्निकल टेक्सटाइल्स के लिए 10,683 करोड़ रुपए की प्रोडक्ट लिंक्ड इंसेटिव (पीएलआई) जैसी योजनाओं को लागू किया है। उन्होंने बताया कि हाल ही में सरकार द्वारा आगामी तीन वर्षो में मेगा इन्वेस्टमेण्ट टेक्सटाइल्स पार्क स्कीम (मित्रा) के तहत सात टेक्सटाइल पार्क स्थापित करने की घोषणा की है, जिससे देश का कपड़ा उद्योग विश्व में प्रतिस्पर्धक बनेगा। उन्होंने यह भी कहा कि एमएसएमई सेक्टर के टेक्सटाइल उद्यमियों को विश्वस्तर के मानदंडों को अपनाने पर फोकस करने की जरुरत है, ताकि वे विश्व के प्रमुख निर्माताओं के साथ भागीदारी करके अंतर्राष्ट्रीय उद्यमियों की मांग को पूरा कर सकें। उन्होंने बताया कि भारत विश्व में टेक्निकल टेक्सटाइल खासकर बिल्डटैक, मेडीटेक और ओयकोटेक का सबसे बड़ा उपभोक्ता देश बनने जा रहा है।  उनके अनुसार हाल के बजट में रेलवे और रोड में आधारभूत संरचना, आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत और जल जीवन मिशन के लिए जो घोषणाएं की गई हैं, उनसे आने वाले वर्षों में टेक्निकल टेक्सटाइल में भारी वृद्धि होगी। इसके लिए सरकार ने नेशनल टेक्सटाइल मिशन के लिए 1,480 करोड़ रुपए का प्रावधान किया है। इसका उपयोग देश में टेक्निकल टेक्सटाइल के क्षेत्र में अनुसंधान, इनोवेशन, प्रमोशन और बाजार को विकसित किया जाएगा।
 

Latest News