NEWS

Textile Textile Textile Textile Textile Articles Textile Textile Articles Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile
स्पिनिंग मिलों एवं निर्यातकों की लेवाली से रुई के भाव मजबूत 

स्पिनिंग मिलों एवं निर्यातकों की लेवाली से रुई के भाव मजबूत 

By: Textile World Date: 2021-02-01

मुंबई/ रुई बाजार में आवक एवं मांग दोनों बढ़ी है, साथ ही उत्पादन अनुमान के आंकड़ों में भी बदलाव किया गया है। उत्पादन अनुमान पहले की तुलना में अब बढ़ाकर बताया गया है। अक्टूबर से शुरू सीजन के लिए काटन एसोसिएशन ऑफ  इंडिया ने अपना उत्पादन अनुमान 2.50 लाख गांठ बढ़ाकर 358.5 लाख गांठ कर दिया है, जबकि पहले नवम्बर में अनुमान 356 लाख गांठ लगाया था। जैसे कपास की आवक बढ़ती जा रही है, वैसे ही रुई को लेकर स्थितियां भी स्पष्ट होती जा रही हैं। अच्छी आवक एवं गुणवत्तापरक क्वालिटी आने से बाजार में निर्यातकों तथा स्पिनिंग मिलों की लेवाली कायम रही है, भाव बढ़कर मिल रहे है, अत: अभी रुई में गिरावट की संभावना नहीं है। 
अक्टूबर से दिसम्बर के दौरान संशोधित अनुमान के अनुसार रुई की कुल आपूर्ति 327.75 लाख गांठ थी। जिसमें 197.85 लाख गांठ की आवक 4.5 लाख गांठ आयात और अक्टूबर के प्रारंभ में 125 लाख गांठ शेष रहा स्टॉक भी शामिल है। इन तीन महीनों के दौरान रुई की कुल खपत 82.50 लाख गांठ और निर्यात 20 लाख गांठ था। एसोसिएशन का अनुमान है कि दिसम्बर अंत तक 224.85 लाख गांठ का स्टॉक था। जिसमें से 65 लाख गांठ मिलों के पास और 159.85 लाख गांठ कॉटन कॉर्पोरेशन, महाराष्ट्र फेडरेशन, एमएनसी और जीनर्स के पास रहा है। पूरे फसल वर्ष में रुई की कुल आपूर्ति सीजन शुरू होने पर रहे बचे स्टॉक को मिलाकर 497.50 लाख गांठ होगा। 
रुई आपूर्ति के जो उपर्युक्त आंकड़े हैं, इनमें 358.50 लाख गांठ आवक और 14 लाख गांठ आयात शामिल है। रुई की स्थानीय खपत 330 लाख गांठ, निर्यात करीब 54 लाख गांठ के बाद वर्ष के अंत 30 सितम्बर 2021 को 113.50 लाख गांठ का केरी ओवर स्टॉक रहने का अनुमान व्यक्त किया गया है। किसानों को हाल कपास का अच्छा भाव मिलने से बाजार में आवक लागातार हो रही है। इस बीच रुई की मांग में उछाल के साथ लेवाली में कोई कमी नहीं है। ऐसी रिपोर्ट है कि कॉटन कॉर्पोरेशन ऑफ  इंडिया ने वर्ष 2020 के दौरान न्यूनतम समर्थन भाव पर 151 लाख गांठ की खरीदी की थी, जो  पिछले वर्ष के 38.47 लाख गांठ के मुकाबले 290 प्रतिशत अधिक प्राप्ति है।

Latest News

© Copyright 2021 Textile World