NEWS

Textile Textile Textile Textile Textile Articles Textile Textile Articles Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile
गारमेण्ट ब्राण्ड्स ने बिक्री बढ़ाने के लिए लगाया जोर

गारमेण्ट ब्राण्ड्स ने बिक्री बढ़ाने के लिए लगाया जोर

By: Textile World Date: 2020-11-17

मुंबई / रेडीमेड गार्मेंट में दीपावली त्योहार जैसा कुछ दिखाई नहीं देता है। मुंबई में ग्राहकी नहीं है। देसावरी ग्राहकी मात्र 20 से 30 प्रतिशत रही है। कोरोना काल में बड़े शोरूमों में ट्रायल रूमों पर प्रतिबंध होने का विपरीत असर गारमेंट की बिक्री पर देखा जा रहा है। बोनस नहीं मिलने से इस बार लोगों के हाथ में पैसा नहीं है। केंद्रीय कर्मचारियों को दीपावली पर मिले सौगात से 1000 रू से उपर के ही गार्मेंट खरीदने की छूट है। मॉल में ब्रांडेड गारमेंट की 20 से 25 प्रतिशत दुकानें बंद पड़ चुकी है। हाईस्ट्रीट की कुछ दुकानें अभी भी बंद है। इन सभी कारणों से दीपावली जैसे त्यौहार पर गारमेंट में धंधा बहुत ही फीका है, लेकिन अभी रिटेल स्तर पर ग्राहकी चलने की धारणा है।

उत्पादन घटा है, फिर भी देश में गारमेंट का भविष्य उज्जवल माना जाता है, गारमेंट की सभी ब्रांडों ने ऑनलाइन तथा ऑफलाइन त्यौहार के समय बिक्री बढ़ाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाया है, तथापि दीपावली पर अभी तक बिक्री नहीं बढ़ी है एवं फीकी रहने का अनुमान है।

वहीं दूसरी ओर इस बार अच्छी बारिश होने एवं उपज अच्छी होने से ग्रामीण स्तर पर कपड़ा एवं गारमेंट दोनों में अच्छी ग्राहकी रहने का अनुमान है। टियर 2 और टियर 3 शहरों में अच्छी ग्राहकी रहेगी, इसका अनुमान पहले से ही लगाकर उत्पादकों ने इस ओर ध्यान दिया है। इतना ही नहीं, आगे नवम्बर के अंत से वैवाहिक मांग भी निकलनी शुरू हो जाएगी। लॉकडाउन में ऑनलाइन सेल कुछ सुधरा है।

ऑनलाइन खिलाडिय़ों द्वारा पहले शुरूआती दौर में पुराना स्टॉक बेचा जा रहा था, जिस पर डिस्काउंट अधिक था, लेकिन जैसे ही नया स्टॉक ऑनलाइन पर बिकने के लिए आया, डिस्काउंट कम कर दिया गया। कोरोना महामारी में करीब छह से सात महीने की स्थितियां अति गंभीर रही हैं, इस दौरान लोगों की खरीद शक्ति घटी है। रेमंड एपेरल की बिक्री पर ध्यान देने का निर्णय लिया है। मुंबई की 70 से 75 प्रतिशत गारमेंट इकाईयों में ही उत्पादन हो रहा है। ये इकाईयां भी अपनी पूरी क्षमता से गारमेंट का उत्पादन नहीं कर रही है। अनुमान है कि 15 से 25 प्रतिशत की क्षमता पर यहां उत्पादन हो रहा है, इस कारण मुंबई की गारमेंट इकाईयों में उत्पादन एक चौथाई ही है।

Latest News

© Copyright 2020 Textile World