NEWS

Textile Textile Textile Textile Textile Articles Textile Textile Articles Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile
 बरसात से तैयार मालों में नुकसान : नया तैयार करने में कठिनाई

बरसात से तैयार मालों में नुकसान : नया तैयार करने में कठिनाई

By: Textile World Date: 2020-09-30

बालोतरा/ लालचन्द पुनित

चिर प्रतीक्षित बरसात ने तृप्ति को संजो कर उमंग उल्लास और संतुष्टि के आभास की गरिमा को एक नया परिवेश प्रदान किया। कोरोना के  इस आतंक और भय भरे वातावरण में प्रकृति की रिमझिम बारिश ने मरहम सा कार्य करने का साहस दिखाया। नि:संदेह इससे कार्य प्रक्रिया कई प्रकार से प्रभावित हुई। धुपाई गड़बड़ा गई, सुखाई में व्यवधान उपस्थित हो गया। रंगाई छपाई की गुणवत्ता भी पूर्णतया प्राप्त करने में चूक गई। बूंदों का कहर इस प्रकार बरपा कि ग्रे पर पड़ा कपड़ा व जीगर पर रखा कपड़ा डेमेज हो गया। एक उद्यमी ने बताया कि उसके 130 थान ऐसे बिगड़े कि पुन: संवारने का रास्ता नहीं मिल रहा है। पॉपलिन के माल पर तो बरसाती छींटे तेजाबी असर रखते हैं।

 

यह माल पुन: काला भी रंगने को दिया जाए तो बरसात से क्षतिग्रस्त माल इसके लिए भी उपयुक्त नहीं रहता। अचानक आई बरसात ज्यादा नुकसान करती है। वर्षा का अनुमान पहले होने पर तो माल काफी कुछ व्यवस्थित किया जा सकता है। वैसे अधिकांश उद्यमी कई प्रकार की हानियों के अभ्यस्त हैं। वे अपनी हिम्मत के बल पर अपने उद्योग को जीवंत बनाए रखने में सक्षम लगते हैं। इन दिनों प्रिंट नाइट से सिलीकेट हटाने हेतु छपाई में आ रही परेशानियों के परिणाम स्वरूप कई उत्पादकों को गीला माल लाकर अपनी फैक्ट्री में सुखाने की विवशता है। हस्त प्रिंट क्लॉथ की नाइटी या सलवार सूट बनाने में तो इतना अधिक समय लगता है कि उसकी कल्पना भी नहीं की जा सकती। ऐसे कारीगरों के पास इतना माल पड़ा है कि वह समय पर दे नहीं सकते। उनके कहने में भी सत्यता है कि हस्त प्रिंटिंग अलग अंदाज में होती है, उसमें चाहे जितना माल बनाना किसी भी प्रकार से संभव नहीं होता। इस कारण से माल की चालानी विलंब से ही हो पाती है। आजकल माल की कमी के कारण व्यापारी पैसा पहले दे देते हैं, परन्तु चालानी में देरी होने की बात उत्पादक पहले ही कह देते हैं, फिर भी व्यापारी तकादे से नहीं चूकते। वैसे व्यापारी का कहना है कि क्रम से माल की चालानी में प्राथमिकता रहती है। फिलहाल रेयान प्लेन व प्रिन्टेड के साथ नाईटी क्लोथ मांग उफान पर है। लाओ-लाओ का स्वर गुंजायमान है। उत्पादकों के पास ग्रे क्लोथ तो है, परन्तु माल तैयार करना बड़ा मुश्किल हो रहा है। इस सारे वातावरण में श्रमिकों की कमी का रोल भी कम महत्वपूर्ण नहीं है। पोपलीन की मांग में भी इन दिनों बढ़ोतरी का स्वर सुनाई देने लगा है। ग्रे क्लोथ में कुछ तेजी के कारण आड़तियों से अच्छे सौदे होने के समाचार हैं। बालोतरा जल प्रदूषण निवारक एवं नियंत्रक ट्रस्ट द्वारा 1 सप्ताह तक संयंत्र में कारखानों से निस्तारित प्रदूषित जल, टेस्टिस से जुड़ी युनिटों से न लेने के फरमान से उत्पादन में एक और व्यवधान आ गया है। टेस्ट में यह आदेश संयंत्र के रखरखाव व अन्य कारणों से जारी किया है।

 

औद्योगिक क्षेत्र में रीको द्वारा सीमेंटेड सडक़ों के निर्माण से आवाजाही में भारी सुविधा अनुभव की जा रही है। इस प्रकार की सडक़ों के निर्माण से औद्योगिक क्षेत्र सौंदर्य वृद्धि हो रही है। औद्योगिक क्षेत्र में कुछ संपर्क सडक़ें अभी भी बदहाली में हैं, उन्हें दुरूस्त कर अथवा नई सडक़ें बना कर आदर्श औद्योगिक क्षेत्र बनाने की पहल करनी चाहिए। रिको प्रशासन की औद्योगिक नीति से औद्योगिक क्षेत्रों को निरंतर निखरने का मौका मिल रहा है, जो स्वागत योग्य है।

 

कभी-कभी लागत बढऩे का झोंका ऐसा आता है कि उत्पादक हतोत्साहित होने की स्थिति में आ जाता हैं, पर उसके पास अन्य विकल्प न होने के कारण स्वीकार करने के मजबूरी होती है। हाल ही में मालेगाँव से आने वाले माल की 1 गांठ की पेकिंग की जाने वाली गांठ में 1 थान कम पैक किये जाने के फेसले से किराया मजदूर आदि के खर्चां में स्वत: ही बढ़ोतरी ने झकझोर दिया है। गुजरी का माल बनाने वाले उद्यमियों का कहना है कि मांग तो निश्चित तौर पर आकाश छूने लगी है, पर वर्तमान हालातें में माल दशहरे तक भी बन जाय तो गनीमत है। सभी निर्माताओं के पास इतना ग्रे माल है कि नया माल कोई लेने को ही तैयार नहीं है। उद्यमियों का कहना है कि ग्रे माल पूरी तरह से तैयार है, पर प्रोसेस में नम्बर कब आये, इसका लम्बे समय तक इन्तजार ही करना पड़ेगा।

 

बालोतरा नगर में निर्माणधीन ओवर ब्रिज बनने में अभी समय लगेगा, तब तक यातायात व्यवस्था परेशानी के सबब रूप में ही रहेगी। यह निश्चित है कि ब्रिज बनने के बाद नगर का नक्शा तो पूर्णत: परिवर्तित हो जाएगा, इसके साथ यातायात की सुन्दर व्यवस्था से वर्षों पुराना सिरदर्द सदा के लिये समाप्त हो जाएगा। फिलहाल तो वाहन चालकों के साथ आमजन को भी परेशानियों से रूबरू होना पड़ रहा है। ब्रिज निर्माता इसे व्यवस्थित व कतिपय ढंग से बनाने की पहल करे, तो नागरिकों को सुविधाजनक हल प्राप्त हो सकता है।

Latest News

© Copyright 2020 Textile World