NEWS

Textile Textile Textile Textile Textile Articles Textile Textile Articles Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile
कॉटन यार्न की मांग बढ़ने से भाव में आंशिक उछाल

कॉटन यार्न की मांग बढ़ने से भाव में आंशिक उछाल

By: Textile World Date: 2020-09-09

मुंबई/ यार्न में कारोबार सामान्य होने लगा है। उत्पादन सेंटरों पर ग्रे कपड़ों का उत्पादन जोर पकड़ रहा है। लूमों पर कारीगरों की कमी श्रमिकों की वापसी से दूर हो रही है। आगे सीजन ठंडी की है, अत: मोटे कपड़ों की मांग अधिक होने के अनुमान के साथ बुनकरों का झुकाव ऐसे वस्त्रों के उत्पादन की ओर होता जा रहा है। बुनकरों की मांग अब कोर्स काउंट की निकल रही है। यार्न की आपूर्ति यथावत् है। पाइपलाइन में कोई दिक्कत नहीं है, मिलों के पास जरूरी यार्न का भरपूर स्टॉक है, तथापि  कॉटन यार्न में आई तेजी से ग्रे सूती कपड़ों के भाव में उछाल आने से बाजार को बल मिल रहा है। मिलों का जोर पहले से पड़े विभिन्न किस्म के यार्न की डिलीवरी करने पर है।

 

मिलों के वेयर हाउसों में लॉकडाउन से पहले पड़े यार्न के स्टॉक की डिलीवरी सहज है। ये वेयर हाउस उत्पादन केंद्रों के निकट होने से इनके ट्रांसपोर्टेशन में भी अधिक दिक्कतें नहीं हैं। आमतौर पर ट्रांसपोर्ट में कामकाज सुचारू हो चुका है। स्टॉक एवं कामगारों की बीच में जितनी कमी थी, वह धीरे-धीरे कम हो रही है। मिलें नये यार्न बना कर यार्न का अधिक स्टॉक करने से बच रही है। यह स्थिति विशेषकर कॉटन यार्न में है, जिसके कच्चे माल के भाव धरातल छू रहे हैं। यार्न की खपत बढऩे के आसार अधिक इसलिए हैं कि भिवंडी में लूमों पर कपड़ों का उत्पादन पिछली तुलना में बड़ी तेजी से रफ्तार पकड़ रहा है। बड़े एवं छोटे वीवर्स को भी कपड़ों के लिए प्रोग्राम मिल रहे हैं।

Latest News

© Copyright 2020 Textile World