NEWS

Textile Textile Textile Textile Textile Articles Textile Textile Articles Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile Textile
कोरोना महामारी के बीच व्यापार पकडऩे लगा रफ्तार

कोरोना महामारी के बीच व्यापार पकडऩे लगा रफ्तार

By: Textile World Date: 2020-07-15

अहमदाबाद/ सावलाराम चौधरी

पिछले काफी समय से कोरोना महामारी से पूरा विश्व जूझ रहा है, जिससे लाखों लोगों ने अपनी जान गंवाई है और अभी भी कोरोना महामारी बंद होने के नाम ही नहीं ले रही है। कोरोना के कारण व्यापार जगत को बहुत ही बड़ा धक्का लगा है, जिससे उबरने क म कम से कम एक से दो साल का वक्त लग सकता है। बाजार में ग्राहकी मध्यम ही चल रही है, ज्यादा तेजी के कोई आसार नहीं दिख रहे हैं। पूरे भारत में थोड़ी-थोड़ी मात्रा में बरसात भी चालू हो गयी है। सबको आशा है कि अच्छी बरसात आने से व्यापार धंधा भी अच्छा चल सकता है।

कोरोना महामारी के साथ-साथ भारत के पड़ोसी देश चीन पाकिस्तान व नेपाल गिरगिट की तरह रंग बदलते नजर आ रहे हैं। चीन व पाकिस्तान मिलकर भारत को परेशान करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं। हो सकता है कि आने वाले थोड़े समय में ही भारत द्वारा चीन व पाकिस्तान पर सैनिक कार्यवाही करने का मूड बन जाये। अब भारत को व मोदी सरकार को पूरे विश्व को बताना होगा कि भारत किसी से कम नहीं है। आने वाला समय भारत का होगा व अब भारत दुनिया में नंबर एक या दो पर आने की स्थिति में है।

उधर महाराष्ट्र में भिवण्डी व मुम्बई में कपड़े का कामकाज बंद होने से यहाँ के व्यापार को बड़ा धक्का लग रहा है। मुम्बई का कपड़ा बाजार शायद 15 जुलाई से चालू होने की आशा है व भिवण्डी का ग्रे बाजार भी शांत है। जब तक इन सेण्टरों में रेग्युलर कामकाज नहीं होगा, तब तक बाजार में कामकाज धीमा रहने की आशा है।

पेट्रोल डीजल की कीमतें आसमान छूने लगी है, जिससे महंगाई बढऩे की पूरी संभावना है। अभी बरसात में खेती में किसानों को डीजल की बहुत जरूरत होती है, इससे किसानों का खेती करना महंगा हो रहा है। सरकार को तेल से एक्साइज कम करनी चाहिए, जिससे आम लोगों को महंगाई से राहत मिल सके। गुजरात में कपास की मांग कम होने से व स्पिनिंग मिले बंद होने से कॉटन के दामों में लगातार दबाव बना हुआ है। निर्यात का बाजार बंद जैसा ही है, जिससे कपास का भाव लगातार घट रहा है।

यहां के स्थानीय बाजार में रेडीमेड गारमेण्ट में दिपावली तक का काम है मगर बहुत ही कम मात्रा में। बड़े-बड़े काम वाले अपना काम आधी केपिसिटी से चला रहे हैं। आगे त्यौहारी सीजन होने से भी ग्राहकी चलने की आशा कर रहे हैं।

यहाँ के प्रोसेस हाऊसों में 58” प्रिण्ट अच्छा बन रहा है व उसकी मांग है। यहाँ के स्थानीय बाजार में मध्यम गति से व्यापार चल रहा है। सूटिंग-शर्टिंग में भी अच्छा काम हो रहा है। अनस्टिच सूट में कॉटन प्रिण्ट की अच्छी मांग है। रेडीमेड ड्रेस में व्यापारी भारी सूट जो ईद के (रमजान) समय बनाये थे, लोकडाउन के कारण फंसे हुए है, जो 20 से 30 प्रतिशत डिस्काउण्ट में भी माल नहीं बिक रहा है। कुर्ती (टॉप)का बाजार तेजी में है जिसमें कॉटन, रेयॉन, प्रिण्ट काफी वैरायटी बन रही है। लेगिंग का बाजार पलाजा आने से कमजोर पड़ रहा है।

अच्छे माल में रेयॉन प्लेन, रेयॉन प्रिण्ट 44’’ 58’’ दोनों में अच्छी मांग है। ग्रे उत्पादक क्षेत्रों से कच्चे माल की आपूर्ति धीमी होने से मांग बनी  हुई है। यहां के प्रोसेस हाऊसों में मजदूरों की कमी होने से माल बनने में काफी समय लग रहा है। साउथ का बाजार काफी समय से बंद जैसा होने से वहां की मांग रुक गयी है। उधर पंजाब, हरियाणा, दिल्ली यूपी की अच्छी मांग बनी हुई है। आने वाले समय में काफी तीज त्यौहार आ रहे हैं, जिससे भी व्यापारी अच्छी ग्राहकी की आशा कर रहे हैं। बाजार में पैसों की तंगी बरकरार है व काफी व्यापारी समय पर पैसा नहीं आने से बहुत ही परेशान हैं।क

Latest News

© Copyright 2020 Textile World